नजर कमजोर होना आजकल लोगों में बहुत आम हो चुका है। आंखोें में धुंधली दृष्टि, 

आंखों में खिचाव होना, आंखे खराब होना। इससे नजर कमजोर होती है। आपको पढ़ने लिखने में परेशानी होती है। बहुत बार लोग कमजोर दृष्टि पर ध्यान भी नहीं देते, और इसे अनदेखा कर देता है क्योंकि आंखों की दृष्टि ओर ज्यादा खराब हो सकती है। ऐसे मे आंखों की दृष्टि के लिए नेत्र जांच कराना बहुत जरूरी है। 

आपकी आंखें जल रही हैं, खुजली हो रही है, और थकी हुई हैं। यह एक सामान्य स्थिति है लेकिन शायद ही यह कभी गंभीर हो। इस समस्या को रोकने या कम करने के लिए आप आसान कदम उठा सकते हैं। कभी-कभी यह एक गहरी स्थिति का संकेत हो सकते है। जिसके लिए इलाज करने की अधिक से अधिक अवश्यकता होती है। अगर आपको सिरदर्द या अन्य परेशानियां जैसे :- दोहरी दृष्टि या साफ ना दिखाई देना या बहुत ज्यादा सिरदर्द का होना यह नजर कमजोर के लक्षण होते है।

नजर कमजोर के कारण

किसी भी चीज के हमें आखों की जरूरत होती है। आखों के उपयोग की हर समय आवश्यकता होती है, वह थकान की वजह से भी हो सकती है और कुछ आम कारणों से भी हो सकती है।

  • पढाई करना 
  • स्क्रीन वाले डिवाइस पर लगातार देखते रहना
  • लिखने के कारण
  • ड्राइविंग करने से
  • तेज रोशनी को लगाातार देखते हैं तो इससे आपकी आंखों को बहुत थकान हो सकती है।
  •  

नजर कमजोर के लक्षण 

कमजोर दृष्टि के लक्षण काफी स्पष्ट रूप से महसूस किए जाते हैं, और जैसे ही आप लक्षणों का अनुभव करना शुरू करते हैं, यह दृढ़ता से सलाह दी जाती है कि आप तुरंत एक ऑप्टोमेट्रिस्ट के पास जाएं। यहां कुछ चीजें दी गई हैं जिन पर आपको ध्यान देना चाहिए:

  1. धुंधली दृष्टि

जिस तेज से हम दूर या पास की वस्तु पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं, वह स्वस्थ दृष्टि का संकेत है। इसके विपरीत जब हम अचानक किसी चीज को देखते हैं और छवि धुंधली दिखाई देती है और फोकस में आने में समय लगता है तो यह इस बात का संकेत है कि आंख अब अपनी पूरी क्षमता से काम नहीं कर रही है। यह आंखों की रोशनी कम होने का संकेत है।

  1. चकाचौंध

यदि आपको अपनी आंख को ढालने के लिए मजबूर किया जाता है, भले ही सूर्य की किरणें इतनी शक्तिशाली न हों, तो आपकी आंखें सूर्य की चमक के साथ-साथ परावर्तित प्रकाश के प्रति बहुत संवेदनशील हो गई हैं। यह महत्वपूर्ण है कि आप तुरंत एक डॉक्टर को देखें। यह समस्या दूरदृष्टि, मंहगाई, मोतियाबिंद या आंखों की अन्य समस्याओं के कारण हो सकती है।

  1. दोहरी दृष्टि

यह तब होता है जब आप दो समान वस्तुओं को देखने का अनुभव करते हैं। यह गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त दृष्टि का संकेत हो सकता है और इसकी तुरंत जांच की जानी चाहिए। यह एक या दोनों आंखों में शुरू हो सकता है और मोतियाबिंद, दृष्टिवैषम्य और अनियमित आकार के कॉर्निया का परिणाम हो सकता है। यह सबसे सरल कार्यों को करने में कठिनाइयाँ पैदा कर सकता है, और कॉलेज के छात्रों में काफी आम है।

  1. स्क्विंटिंग

दूर से कुछ निर्धारित करने में कठिनाई हो रही है, या आपके सामने जो है उसे पढ़ने में आपको परेशानी हो रही है? अगर आपको कुछ पढ़ने के लिए अपनी आंखों को लगातार संकीर्ण करने की जरूरत है तो आपकी आंखों की रोशनी तेजी से कमजोर हो सकती है। स्क्विंटिंग आपकी आंख में प्रवेश करने वाले प्रकाश की वक्रता को कम करके आंखों पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करता है। यह नेत्रगोलक के आकार बदलने या कॉर्निया की संरचना में परिवर्तन के कारण हो सकता है।

  1. सिरदर्द

सिरदर्द अक्सर तनाव या तनाव का परिणाम हो सकता है जो हम ध्यान केंद्रित करने या भेंगाने की कोशिश करते समय अपनी आंखों पर डालते हैं। धुंधली दृष्टि या दोहरी दृष्टि आपको अपनी आंखों पर अनुचित दबाव डालने के लिए मजबूर करती है जिससे गंभीर सिरदर्द होता है।

  1. जमीनी स्तर

जब भी उपरोक्त में से कोई भी लक्षण प्रकट होने लगे, तो सलाह दी जाती है कि तुरंत किसी प्रमाणित और अनुभवी नेत्र चिकित्सक के पास जाएँ। प्रकाश प्रभामंडल और रतौंधी पर भी नज़र रखें। रतौंधी तब होती है जब आपको अंधेरे या मंद रोशनी में स्पष्ट रूप से देखने में कठिनाई होने लगती है। आपको कभी-कभी उन वस्तुओं को निर्धारित करने में कठिनाई का अनुभव हो सकता है जो आपसे काफी दूर हैं या अब पढ़ने की कोशिश करते समय धुंधला प्रभाव पड़ रहा है, ये भी कमजोर दृष्टि के लक्षण हैं।

कमजोर आंखों का उपचार

कमजोर या खराब दृष्टि के सबसे सामान्य लक्षणों में से कुछ बातें हमने आपको बताई। इसलिए, समय-समय पर चेकअप करवाना जरूरी है। चेकअप करवाने के लिए आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए। अपने चश्मे को रोजाना पहनें और आंखों की दृष्टि को सही करने के लिए कुछ नेत्र व्यायाम करें। इसके अलावा, आपको मजबूत नेत्र दृष्टि रखने के लिए स्वस्थ आहार और पोषण युक्त भोजन लेना चाहिए। इसके अलावा नियमित रूप से एक्‍सरसाइज और योगाभ्‍यास जरूर करें। सुबह-सुबस ओस पड़ी हुई घासों पर नंगे पांव चलें। 

हमने आपको कमजोर या खराब दृष्टि के लक्षणों आपको बताए है। इसलिए कहा जाता है कि समय समय पर अपनी आंखों का चेकअप कराते रहे। आपको चेकअप कराने के लिए तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए। इसके अलावा अपने चश्में को रोजाना पहनने, और दृष्टि को ठीक करने के लिए नेत्र व्यायाम रोजाना करें। इसके बाद आपको अपनी दृष्टि  के लिए स्वस्थ आहार और पोषण वाला भोजन का सेवन करें। अपनी आंखों को स्वस्थ रखने के लिए नियमित रूप से एक्सरसाइज और योग करें, और फिर ओंस वाली घासों पर नंगे पैर चलें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

आपको कैसे पता चलेगा कि आपकी नजर कमजोर है? 

आपको नजक तब खराब होती है जब आप धुंधली दृष्टि जो तेज रोशनी में खासकर रात में खराब हो सकती है और ऑटोमोबाइल हेडलाइट्स या तेज धूप से अंधा या असहज चकाचौंध के जैसा होना। पढ़ाई करते समय धुंधला दिखना इससे आपको पता चल सकता है कि आपकी नजर कमजोर है या हो गई है।

कमजोर दृष्टि के प्रभाव क्या हैं?

आंखें खराब होने वाले लोगों के लिए अलग- अलग महसूस होता है। और उनके आसपास के लोगों पर बढ़ती निर्भरता, चिंता और मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देने की वजह से कमजोर दृष्टि पर प्रभाव पड़ता है।

घर पर अपनी आंखों की रोशनी को कैसे चैक करें?

आप अपने घर पर आंखों की रोशनी की जांच कुछ इस तरह कर सकते है। जैसे;- 

आप अपने बच्चे को एक आंख ढक के पढने के लिए कहें। फिर देखें की क्या आप ठिक से पढ़ पा रहें है या नहीं। फिर दूसरी आंख के साथ भी ऐसा ही करें  जैसा पहली आंख के किया था। इससे आपको पता लग सकता है कि आपकी आंखें कमजोर है या नहीं।

आप कैसे जानते हैं कि आपको चश्मे की ज़रूरत है?

कुछ संकेत बताते हैं कि चश्मे आपको चश्मे की जरूरत है या नहीं। अगर आपको बार-बार सिरदर्द हो रहा है या देखने में कोई परेशानी हो रहीं है और आपको अपनी पुस्तक को अपने चेहरे के सामने रख के पढना पड़ रहा है तो समझ जाए की आपको चश्मे की ज़रूरत है।

क्या खराब दृष्टि आपके दिमाग को प्रभावित कर सकती है?

विशेषज्ञ मानते हैं कि मस्तिष्क को ठीक से काम करने में मदद करने में दृश्य स्वास्थ्य महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। “धुंधली दृष्टि धुंधली मस्तिष्क के बराबर होती है। 

7 दिनों में अपनी आंखों की रोशनी कैसे ठीक कर सकते है?

2 सेकंड के लिए अपनी आंखें बंद करके शुरू करें, फिर 5 सेकंड के लिए तेजी से खोलें और झपकाएं। 5-7 बार दोहराएं। कंप्यूटर पर काम करते हुए या फोन पर अपनी पसंदीदा सीरीज देखते समय, हर 20 मिनट में 20 फीट दूर किसी चीज को 20 सेकंड के लिए देखें। सही खाने से भी आपकी आंखों की रोशनी पर काफी फर्क पड़ता है।

हमारी आंखें कमजोर क्यों हो जाती हैं?

कम दृष्टि के कुछ सबसे सामान्य कारणों में उम्र से संबंधित धब्बेदार अध: पतन, मधुमेह और ग्लूकोमा शामिल हैं। कम दृष्टि का परिणाम आंख के कैंसर, ऐल्बिनिज़म, मस्तिष्क की चोट या रेटिनाइटिस पिगमेंटोसा के साथ आंख के वंशानुगत विकरों से भी हो जाता है।

यह भी पढ़ें

Piles Meaning in Hindi Liver Meaning in Hindi
Circumcision Meaning in Hindi Anesthesia Meaning in Hindi
Sex Power Food in Hindi Mole Meaning in Hindi
Meftal Spas Tablet Uses in Hindi Povidone Iodine Ointment USP Uses in Hindi
Astigmatism Treatment in Hindi Cataract Surgery Cost in India in Hindi

 

Book Now Call Us