बवासीर के इलाज के कई विकल्प घर में या ओवर-द-काउंटर दवाओं के रूप में उपलब्ध हैं। उपचार के कई तरीकों में बवासीर के लक्षणों को तब तक कम करना शामिल है जब तक कि वे अपने आप ठीक नहीं हो जाते।

गर्म स्नान

पैरों को ढकने के लिए पर्याप्त गर्म पानी के टब में बैठने से सूजन को कम करने और बवासीर के कारण होने वाली जलन को कम करने में मदद मिल सकती है। कुछ लोग लक्षणों को और भी कम करने करने के लिए स्नान में अन्य सामग्री जोड़ना चुनते हैं। इन सामग्रियों में एक कप एप्सम साल्ट या एप्पल साइडर विनेगर शामिल हो सकते हैं।

अन्य लोग सेब साइडर सिरका को सीधे बवासीर में जोड़ना पसंद करते हैं, लेकिन यह सूजन वाली त्वचा को और भी अधिक चुभ सकता है और परेशान कर सकता है।

एप्सम साल्ट ऑनलाइन खरीदने के लिए उपलब्ध हैं, जैसे कि एप्पल साइडर विनेगर।

चुड़ैल हेज़ेल

बवासीर पर या उसके पास क्या रखा जाता है, इसके बारे में लोगों को सावधान रहना चाहिए, क्योंकि वे आसानी से अधिक सूजन और चिड़चिड़े हो सकते हैं। बहुत से लोग राहत पाने के लिए विच हेज़ल को सीधे बाहरी बवासीर पर लगाते हैं। प्राकृतिक विच हेज़ल एक एस्ट्रिंजेंट है, जो एक ऐसा पदार्थ है जो ऊतक को सिकुड़ने का कारण बनता है। जर्नल ऑफ इन्फ्लैमेशन में शोध के अनुसार, इसमें एंटीऑक्सिडेंट और विरोधी भड़काऊ गुण भी हैं। विच हेज़ल चोट को कम करने के लिए जाना जाता है।

कॉटन बॉल में थोड़ी मात्रा में शुद्ध विच हेज़ल मिलाकर बवासीर पर लगाने से कई लक्षणों से राहत मिल सकती है। यदि यह लक्षणों को बहतर बनाता है, तो लोगों को कम प्रत्यक्ष विधि का प्रयास करना चाहिए।

यह महत्वपूर्ण है कि विच हेज़ल अल्कोहल से पतला नहीं होता, क्योंकि यह बवासीर को सुखा सकता है और जलन पैदा कर सकता है।

नारियल का तेल

नारियल का तेल, जो ऑनलाइन भी उपलब्ध है, एक प्राकृतिक मॉइस्चराइजर है, जो बवासीर के लक्षणों में भी मदद कर सकता है। नारियल का तेल लगाने से जलन और सूजन कम हो सकती है, और यह खरोंच की इच्छा को कम करने में भी मदद कर सकता है।

एलोवेरा

कई संस्कृतियों में एलोवेरा का इस्तेमाल कई तरह की समस्याओं के इलाज के लिए किया जाता रहा है। बायोमेड रिसर्च इंटरनेशनल के शोध के अनुसार, पौधे का शरीर पर एक विरोधी भड़काऊ प्रभाव होता है और यह घावों को ठीक करने में मदद कर सकता है।

मुसब्बर गुदा पर लगाने पर बवासीर के कारण होने वाली जलन, खुजली और सूजन से राहत दिला सकता है। शुद्धता बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि एडिटिव्स और प्रिजर्वेटिव लक्षणों को बेकार बना सकता हैं।

आइस पैक

बवासीर में बर्फ या ठंडे पैक लगाने से भी दर्द और सूजन से राहत मिल सकती है। बैठने के दौरान या बवासीर के भड़कने पर आइस पैक लगाने से दर्द और अस्थायी रूप से आने वाली सूजन को कम किया जाता है।

आपको त्वचा को हानि से बचाने के लिए तौलिया में बर्फ के टुकडे को 15 मिनट के लिए लगा कर रखें और हर घंटे प्रक्रिया को दोहराएं।

ओवर-द-काउंटर

ऐसे में अगर आपके पास सरल उपचार नहीं है और आपको दर्द बहुत अधिक हो रहा है, काउंटर पर मिलने वाली दवाएं और क्रीम कुछ राहत प्रदान कर सकती हैं।

एसिटामिनोफेन या इबुप्रोफेन जैसे गैर-स्टेरायडल विरोधी भड़काऊ दवाएं (एनएसएआईडी) मदद कर सकती हैं। हाइड्रोकार्टिसोन जैसे अवयवों वाली त्वचा पर क्रीम लगाने से अस्थायी राहत भी मिल सकती है।

पाइल्स की समस्या को दूर करने के घरेलू उपाय

दर्द और सूजन के ढेर को कम करने और यहां तक कि समय के साथ बवासीर को भी कम करने के लिए आप घर पर कई उपाय आजमा सकते हैं। आइए कुछ विकल्पों को देखें। 

बवासीर के इलाज के लिए मूली

बवासीर के दर्द से राहत के लिए इस घरेलू उपचार में एक मूली को कुचलकर उचित मात्रा में दूध के साथ मिलाकर एक गाढ़ा पेस्ट बनाना चाहिए, जिसे रोजाना दो बार गुदा पर लगाना है और 15 मिनट बाद धोकर। इससे कुछ दिनों में लक्षणों से राहत मिल जाती है।

बवासीर के दर्द को कम करने के लिए जीरा पेस्ट

आप जीरे के पाउडर का एक बड़ा चम्मच ले सकते हैं, पानी मिलाकर पेस्ट बना सकते हैं और फिर इसे प्रभावित जगह पर लगा सकते हैं। लगभग 15 मिनट तक इसे छोड़ देने के बाद इसे पानी से धो लेना चाहिए। बवासीर के इलाज के लिए इस घरेलू उपचार को आजमाएं और इसे रोजाना दो बार दोहराने से लक्षणों में मदद मिलेगी और दर्द कम होगा।

पाइल्स की समस्या में संतुलित आहार

पाइल्स वाले लोगों के लिए संतुलित आहार की कमी समस्याग्रस्त हो सकती है, और इस प्रकार, यह अनुशंसा की जाती है कि आहार में पर्याप्त मात्रा में हरी पत्तेदार सब्जियां और फल भी शामिल किए जाएं।

बवासीर के इलाज के लिए अंजीर

बवासीर के खिलाफ सूखे अंजीर भी एक और बेहतरीन हथियार है। कुछ सूखे अंजीर को रात भर गर्म पानी में भिगोकर सुबह खाने से मल त्याग करने में आसानी होती है, जिससे मलाशय की नसों पर दबाव कम होता है।

बवासीर दर्द के लिए हरीतकी चूर्ण

यह हरड़ के फलों का छिलका है और इसे 1 कप गुड़ के साथ लेने से कब्ज के लक्षणों को कम किया जा सकता है जैसा कि कई रोगियों द्वारा बताया गया है।

बवासीर के रोगियों के लिए आरंडी का तेल लाभ

एक गिलास दूध में एक छोटा चम्मच अरंडी का तेल मिलाकर मल को नरम करने और मलाशय की दीवारों पर दर्द कम हो सकता है।

बवासीर के लिए नागकेसर का प्रयोग करें

बवासीर के दर्द के लिए इस प्राकृतिक घरेलू उपचार में आयुर्वेदिक औषधि नागकेसर का प्रयोग करें, जो आमतौर पर रोजाना तीन बार मौखिक दवा के रूप में निर्धारित किया जाता है और कई बार इसकी प्रभावशीलता साबित हुई है।

बवासीर की समस्या के लिए अभयारिष्ट सिरप –

इस आयुर्वेदिक जड़ी बूटी की 30 मिलीलीटर की मात्रा भी रोगियों को भोजन के बाद बराबर मात्रा में पानी के साथ दी जाती है और यह बहुत प्रभावी मानी जाती है।

बवासीर के लिए कसीसादि तेल

बवासीर के लिए इस प्राकृतिक आयुर्वेदिक घरेलू उपचार में कसीसादि तेल का उपयोग करें, जिसे बाहरी रूप से लगाना चाहिए और यह बवासीर के कारण होने वाली सूजन और खुजली को कम करने में मदद कर सकता है।

बवासीर के दर्द में 24 घंटे के अंदर राहत

बवासीर का दर्द सब को एक जैसा नहीं होता, यह आपके गुदा के पास खुजली, जलन, सूजन, और दर्द के जैसे लक्षण होने लगते है। इसका इलाज संभव है। लेकिन कुछ लोग आज भी बवासीर के इलाज के डरते हैं, और इसके बारें में बात करने से शर्म महसूस करते हैं। 

आपको बता दें कि आपके किचन में ही बवासीर का इलाज है। आपको बता दें कि एपल साइडर वेनेगर की सहायता से आप बवासीर का इलाज कर सकते हैं। इससे आपको 24 घंटे के अंदर दर्द से राहत मिल सकती है।

बवासीर के  अच्छे और  खराब घरेलू उपाय 

कुछ लोग सेब के सिरका का इस्तेमाल बवासीर के इलाज में करते हैं। यह खुजली और दर्द में बहुत आरामदायक माना जाता है। लेकिन डॉक्टर के अनुसार सेब के सिरके का इस्तेमाल सीधा किया जाए तो इससे आपकी स्किन पर जलन जैसी परेशानी हो सकती है। इसके अलावा ये आपकी काफी समस्याओं बढ़ा सकता है।

टी ट्री ऑयल में एंटी-सेप्टिक और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। इसका इस्तेमाल करने से आपको सूजन और खुजली हो सकती है। एक रिसर्च के अनुसार इस ऑयल का इस्तेमाल करने से बवासीर में किसी भी लक्षणों में कमी नहीं देखी गई। 

यह बीमारी बहुत गंभीर है। इसका इलाज हमेशा डॉक्टर के पास जा कर किया जाना चाहिए।

निष्कर्ष

बवासीर काफी गंभीर होने पर आप फाइबर से भरपूर खाने का सेवन करें। बवासीर के लक्षणों ठीक किया जा सकता है। इसके इलाज के लिए सर्जरी कराना ही अच्छी माना जाता है। अगर आप भी गंभीर बवासीर के रोगी हैं तो glamyohealth से आप बेस्ट विकल्प ले सकते हैं।

हमारे यहां glamyohealth में बवासीर की लेजर सर्जरी को एक अनुभवी और कुशल प्रोक्टोलॉजिस्ट द्वारा किया जाता है। बवासीर की गहरी समझ में और लेजर सर्जरी में अगर कोई भी समस्या हो तो हमारे स्पेशलिस्ट हमेशा मौजूद रहेंगे। ये सर्जन अब तक बवासीर की हजारों सफल लेजर सर्जरी कर चुके हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

बवासीर में तुरंत आराम के लिए क्या करें?

इप्सम साल्ट और ग्लिसरीन दर्दनाक बवासीर को कम करने में मदद करता हैं। इन दोनों को मिलाकर लगाने से सूजन में सूजन में आराम मिल जाता है। 

बवासीर के रोगी को क्या खाना चाहिए?

बवासीर में साबुत अनाज.फलों, हरी पत्तेदार सब्जियों, छाछ का सेवन और हर्बल चाय का सेवन करना सबसे प्रभावशाली देखा गया है। 

बवासीर होने पर क्या क्या नहीं खाना चाहिए?

बवासीर में तेल वाला खाना और मसालेदार खाना खाने से बचें क्योंकि इनमें अधिक मात्रा में फैट होता है जो बवासीर की स्थिति को गंभीर बना सकता है। जैसे – सफेद ब्रेड को हजम, चाय, कॉफी, सिगरेट और गुटखा आदि के सेवन करने से परेशानी होती है।

Related Posts

3 दिनों में पाइल्स का इलाज दिल्ली में बवासीर का इलाज
भारत में पाइल्स सर्जरी की लागत कितनी है? क्या दही खाना बवासीर के लिए अच्छा है?
पुरानी बवासीर के इलाज के लिए प्राकृतिक घरेलू उपचार अगर मुझे फिस्टुला है तो मैं क्या खाना खा सकता हूं?
चपाती पाइल्स के लिए अच्छी होती है महिलाओं में बवासीर के लक्षण
लेजर बवासीर उपचार लाभ फोलीहेयर टैबलेट का उपयोग और दुष्प्रभाव
ग्लैम्यो विशेषज्ञ से जानें शीर्ष 10 बवासीर दर्द निवारक गोलियाँ बवासीर : अर्थ, उपचार, लक्षण और कारण Piles Meaning in Hindi –  
Book Now Call Us