बवासीर एक ऐसी बीमारी जिसके बारे में लोग बात करते समय काफी शर्म महसूस करते हैं। लेकिन ये बीमारी काफी सामान्य बीमारी बन चुकी है। लेकिन यह बीमारी बहुत मुसीबत भरी बीमारी है, अधिकतर लोग कभी ना कभी इस बीमारी के सामना जरूर करते है। बवासीर मे गुदा के अंदर या बाहर की तरफ मस्सों को पैदा कर देता है। वैसे तो यह बीमारी किसी को भी हो सकती है। लेकिन में यह बीमारी महिलाओं में होने के ज्यादा असर होते है। क्योंकि वे घर और ऑफिस की जिम्मेदारियों के चलते खुद पर ध्यान नहीं दे पाती हैं। इसका असर इनके पाचन तंत्र पर पड़ता है। जिससे उन्हें कब्ज और बवासीर जैसी बीमारी का सामना करना पड़ता है। तो चलिए जानते है इन लक्षणों के बारें में…

महिलाओं में पाइल्स के कारण – Bawasir ke lakshan

महिलाओं में पाइल्स बहुत से कारण होते हैं। तो चलिए जानते हैं कि महिलाओं में पाइल्स होने का क्या है कारण…??

  • 1. आपने देखा होगा की महिलाओं को तीखा खाना ज्यादा पसंद होता है। और महिलाओं को ज्यादा मसालेदार उनकी सेहत के पर बूरा असर डालता है। अगर महिलाएं ज्यादा मसालेदार खाना का सेवन कम नहीं करती है तो आपको हो सकती है। जिससे आपको महिलाओं को पाइल्स होने के ज्यादा असर होते हैं।
  • 2. कब्ज की समस्या होना और मल त्याग करने में बहुत अड़चन हो रही हो तो भी पाइल्स की समस्या हो जाती है।
  • 3. जिन महिलाओं का काम देर तक खड़े रहना वाला होता है। उन्हें भी पाइल्स होने की संभावना ज्यादा होता है।
  • 4. मोटापा से भी पाइल्स होने के चांसेस होते है।
  • 5. प्रेग्नेंसी में बहुत सी महिलाओं को पाइल्स की समस्या हो ज्यादा देखने का मिलती है।
  • 6. डिलीवरी होने के बाद भी पाइल्स का खतरा बना रहता है।
  • 7. अगर आपके घर में पहले से ही किसी को बवासीर हो रखा है तो भी आपको पाइल्स होने का खतरा बना रहता है।
  •  

जो महिलाएं तनाव में या सुस्त रहती है वह भी बवासीर का शिकार होने का कारण है। इसलिए ज्यादा तनाव ना लें और सुस्ती को दूर करने के लिए योग का अभ्यास करें।

महिलाओं में पाइल्स से कैसे छुटकारा पाएं

पानी

इसका इलाज आप अपने घर पर भी कर सकते है, और अपने  नजदीकी अस्पताल में जाकर डॉक्टर से ट्रीटमेंट भी करवा सकते है।

फाइबर का उयपोग

अगर आप कब्ज से परेशान है तो आप ओटीसी फाइबर का सेवन करें। यह मल को नरम करने में मदद करता है। फाइबर से भरे भोजन को ज्यादा से ज्यादा रोज उपयोग में लाएं। क्योंकि यह कब्ज को ठीक करने में काफी असरदार माना जाता है।

इसमें घरेलू उपचार भी आपकी मदद करेंगे।

सबसे पहले सुबह नहाते समय अपने गुदा को गर्म पानी से साफ करें। और अगर आप केवल पानी से साफ़ करते है तो साबुन का प्रयोग ना करें क्योंकि साबुन के इस्तेमाल से बवासीर बढ़ सकता है।

सूजन कम करने के लिए गुदा पर ठड़ सेक का उपयोग कर सकते हैं। इससे सूजन कम होती है। और साथ ही अगर आपको दर्द है तो इसे छुटकारा पाने के लिए इबुप्रोफेन या एस्पिरिन की टैबलेट भी ले सकते है। इसे लेने के बाद आपको दर्द में काफी हद तक आराम मिलेगा।

साथ ही जितना हो सके उतना ज्यादा पानी पिएं। क्योंकि पानी शरीर से टॉक्सिन्स को बाहर निकाल देता है जिससे शरीर की बीमारी काफी हद कर दूर हो जाती हैं। और खुद को स्वस्थ महसूस करते हैं।

इसके साथ – साथ आपको योग और व्यायाम  जरूर करें। और एक जगह पर ज्यादा देर तक ना बैठे रहें।

दर्द में आराम के लिए

दर्द बहुत ज्यादा होता है आप रोज एक टब में गर्म पानी कर के 10 मिनट तक बैठे रहें। इससे बाहरी बवासीर में काफी राहत मिलेगी, और गर्म पानी की बोतल पर बैठना भी बहुत लाभकारी माना जाता है। लेकिन अगर आपको अहर दर्द बिल्कुल भी सहन नही हो रहा हो तो आप तुरंत जा कर ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) सपोसिटरी को ले इससे आपको दर्द में काफी आराम देखने को मिलेगा। यह आपको ऑनलाइन और दुकानों पर दोनों जगहों पर मिल जाएँगे।

बवासीर में डॉक्टर के कब जाएं

घर पर सभी प्रकार के उपचार करने पर भी आराम नहीं मिल रहा है तो तुरंत डॉक्टर के पास जा कर अपना इलाज कराएं। इसके बाद इंजेक्शन थेरेपी या स्क्लेरोथेरेपी इन दोनो से भी आप इलाज करा सकते है। इसमें डॉक्टर एक रसायन को सीधे रक्त वाहिका में

तो डॉक्टर से इलाज कराए। डॉक्टर रबर बैंड बंधाव से इसका इलाज करते है। इसका इलाज इंजेक्शन या स्क्लेरोथेरेपी से भी होती है। डॉक्टर एक रसायन को सीधे रक्त वाहिका में इंजेक्शन लगाते है। जिससे बवासीर का आकार छोटा होता है। और आराम मिलने लगता है।

महिलाओं में बवासीर के शीर्ष 12 लक्षण

बवासीर जिसको भी होता है उन सबके लक्षण अलग  होते है जिनमें से कुछ लक्षण बहुत ही आम होते है। तो चलिए जानते हैं इन लक्षणों के बारें में…

  1. 1. गुदा में या गुदा के आस पास खुजली का होना और तेज जलन का होना। इसके साथ ही लालीपन का होना। 
  2. 2. गुदा के आस-पास कठोर गांठ का होना।
  3. 3. शौच करने के बाद भी ऐसा लगना जैसे फिर से मल का आना या आने का आशंका होना।
  4. 4. शौच के बाद भी पेट साफ ना होने का आभास होना।
  5. 5. शौच करते समय जलन का होना  और इसके साथ खून का आना।
  6. 6. गुदा के आसपास दर्द का होना। कभी – कभी यह दर्द असहनीय हो जाना।
  7. 7. शौच के वक्त जलन के साथ लाल चमकदार खून का आना।
  8. 8. टॉयलेट पेपर से गुदा को साफ करने के बाद गंदे बलगम का आना यह भी बवासीर का लक्षण माना जाता है।
  9. 9. शौच करते समय दर्द महसूस होना ।
  10. 10. शौच के वक्त म्यूकस का होना।
  11. 11. इसमें दर्द रहना, तथा खून का आना।
  12. 12. मल का बार बार आने जैसा महसूस होना।
  13.  

इन सभी लक्षणों को बिल्कुल नजरअंदाज ना करें। जितना जल्दी हो सके डॉक्टर के पास जाकर पाइल्स का इलाज  कराए।

महिलाएं पाइल्स को कैसे रोक सकती हैं?

  • 1. बवासीर से परेशान महिलाओं को कुर्सी पर बैठते समय तकिए का प्रयोग।
  • 2. फाइबर से भरे डाइट को खाना चाहिए। क्योकि इससे कब्ज से राहत मिलती है। जैसे – बीन्स, ब्रोकली, एवोकाडो और बादाम जैसी चीजों को अपने खाने में शामिल जरूर करें।
  • 3. ज्यादा से ज्यादा पानी पिए। जंक और स्पाइसी खाना न खाएं।
  • 4. जितना हो सके योग और मेडिटेशन करें। और स्ट्रेस को कम करें।
  • 5. एक सिट्ज या हिप बाथ लें जिसमें एनल एरिया को 10 से 15 मिनट तक पानी में भिगो कर रखें।
  • 6. सर्जरी और दवाइयां को कम से कम उपयोग में लाकर महिलाएं पाइल्स को ठीक कर सकती हैं।
  • 7. स्टेरॉयड क्रीम या कोई भी लोशन का इस्तेमाल करनेृ से दर्द और खुजली को कम करने में सहायता मिलती है। लेकिन आपको बता दें कि इन का इस्तेमाल डॉक्टर के सुझाए के बाद ही करें।
  • 8. लेजर होमोरोइडोप्लासटी का मदद से आप कम आप दर्द को कम कर सकते हैं। जिससे मरीज बवासीर से राहत पा सकती हैं। यह काफी सुरक्षित तकनीक है और इससे ब्लीडिंग और दर्द आदि को कम किया जा सकता है।
  •  

पाइल्स के इलाज के लिए ग्लैम्यो हेल्थ कैसे?

व्यक्तिगत, वैकल्पिक और कॉस्मेटिक सर्जरी के लिए Glamyo Health सबसे बेहतरीन मल्टी-स्पेशियलिटी हेल्थकेयर सेवा देनेवाला है। ग्लैम्यो हेल्थ श्रेष्ठ लेजर तकनीक पाइल्स उपचार के लिए तुरंत आपको सेवाएं प्रदान करता है, जिसमे बिमार व्यक्ति अपनी सभी परेशानीयों मुक्त होने का अनुभव महसूस करता है। इसमें विशेषज्ञ प्रोक्टोलॉजिस्ट की अधिकता है जो बवासीर की सर्जरी बहुत सटीकता के साथ करता है। जिससे आप इस बीमारी से मुक्त हो जाते हैं। ग्लैम्यो हेल्थ डायग्नोस्टिक टेस्ट में बहुत भारी भरकम छूट व अस्पताल में आने वा जानें की सुविधा प्रदान की जाती है। साथ ही रोगी और परिचारक के लिए एक निजी एसी रूम, सर्जरी के बाद बिल्कुल मुफ्त में आपसे आपकी स्वस्थ का ध्यान रखा जाता है। बाकी अन्य आकर्षक ऑफर भी समय समय पर दिए जाते है। अगर आप Glamyo Health से जुड़ते है तो इसके साथ-साथ आपको अनेकों सुविधाएं भी प्राप्त होंगी। जिससे आपको कभी भी कोई भी भविष्य में भी कोई परेशानी नहीं होगी।

निष्कर्ष :

ज्यादातर बवासीर अपने आप खत्म हो जाते है। यदि आपको भी यह लक्षण हैं तो तुरंत डॉक्टर के पास जा कर  इसका इलाज करा लें। नहीं तो यह किसी बड़ी परेशानी का कारण बन सकता है। इसलिए पानी को जिनता हो सकें ज्यादा ज्यादा से पिएं और कब्ज ना होने दें यह बहुत बड़ी कारण है बवासीर होने का।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

  • महिलाओं में बवासीर कैसे होता है?

महिलाओं में बवासीर बहुत से कारणों की वजह से होता है। जैसे – देर तक खड़े रहना, भारी वजन उठाना, धूम्रपान और शराब आदि।

  • बवासीर में तुरंत आराम के लिए क्या करें?

बवासीर में तुरंत आराम के लिए महिलाओं को फाइबर वाला खाना खाएं। इसके अलावा रोज 10 मिनट तक गर्म पानी में बैठे रहें। 

  • बवासीर के मस्से सुखाने के लिए क्या करें?

महिलाओं को  मस्से सुखाने के लिए – हल्दी को कडवी तोरई के रस का लेप बना लेना चाहिए और उसके बाद अपने मस्सों पर लगा लें। इसे लगाने के बाद सब तरह के मस्से खत्म हो जाते है। इसके अलावा लौकी गुड़ को कांजी में पीसकर उसका लेप बना कर लगा लें इससे महिलाओं के बवासीर मस्से जल्द ही खत्म हो जाते हैं।

  • बवासीर होने पर क्या नहीं खाना चाहिए?

महिलाओं को जितना हो सके फाइबर वाला भोजन का सेवन करना चाहिए । और ज्यादा से ज्यादा रसायनिक चीजों को अपने उपयोग में लेकर आए।

  • बवासीर कितने दिन में ठीक हो जाता है?

यह बीमारी आम तौर पर महिलाओं में 2 से 3 दिन मे ठीक हो जाती है।

  • क्या बवासीर में टमाटर खा सकते हैं?

हां बवासीर में महिलाओं को टमाटर खाना चाहिए। इसके अलावा ब्रोकोली, गोभी, गाजर और फूलगोभ का भी सेवन कर सकते हैं। 

  • पाइल्स में चावल खा सकते हैं क्या?

पाइल्स में महिलाओं को साबुत अनाज जैसे ब्राउन राइस, ओट्स, होल व्हीट का सेवन चाहिए।

  • बवासीर में कौन सी दाल खानी चाहिए?

महिलाओं को बवासीर में खेसारी की दाल खानी चाहिए। क्योंकि खेसारी की दाल का सेवन से महिलाओं में कई तरह बीमारी को नष्ट कर देता है।

  • खूनी बवासीर में क्या क्या परहेज करें?

 

  • 1. खूनी बवासीर में तैलीय और मसालेदार चीजें नहीं खानी चाहिए।
  • 2. सफेद ब्रेड सफेद ब्रेड को हजम करने में काफी परेशानी होती है।
  • 3. चाय और कॉफी से महिलाओं को दूर रहना चाहिए।
  • 4. आजकल के इस दौर में महिलाएं भी सिगरेट और गुटखा के सेवन करती है, तो महिलाओं को इन सब से भी दूर रहना चाहिए।

Related Posts

3 दिनों में पाइल्स का इलाज दिल्ली में बवासीर का इलाज
भारत में पाइल्स सर्जरी की लागत कितनी है? क्या दही खाना बवासीर के लिए अच्छा है?
पुरानी बवासीर के इलाज के लिए प्राकृतिक घरेलू उपचार अगर मुझे फिस्टुला है तो मैं क्या खाना खा सकता हूं?
चपाती पाइल्स के लिए अच्छी होती है महिलाओं में पाइल्स के लक्षण
लेजर बवासीर उपचार लाभ Piles Meaning in Hindi
Book Now Call Us